हस्तमैथुन करने वाली लड़कियों की ये होती है पहचान, जानकर नहीं होगा विश्वास

 | 
hastmaithun, हस्तमैथुन,

अभी तक आपने हस्तमैथुन को लड़कों से जोड़कर ही देखा होगा। यह सत्य नहीं है कि लड़के ही हस्तमैथुन करते हैं। क्या आप जानते हैं कि लड़कियां भी हस्तमैथुन करती हैं। इसको लेकर कई मिथक हैं। कई मानते हैं कि हस्थमैथुन इंसानों में समस्या है। यह कई बीमारियों का कारण भी है। 

यह महिलाओं और पुरुषों द्वारा समान तौर की जाने वाली एक शारीरिक क्रिया है। जिसका इस्तेमाल लोग अपने उतेजना को शांत करने के लिए करते हैं। महिलाए भी नियमित रूप से हस्थमैथुन करती हैं।

कुछ महिलाओं की आदत में हस्थमैथुन शामिल हो जाता है। ऐसी महिलाएं अगर किसी वजह से हस्थमैथुन नहीं कर पाती हैं तो उन्हें तनाव और चिड़चिड़ापन होने लगता है। हस्थमैथुन करने वाली महिलाओं को हीमेच्‍यूरिया नामक बीमारी हो सकती है। इस बीमारी में महिलाओं की यूरिन से ब्लड आने लगता है। ऐसे में हस्तमैथुन करने में सावधानी बरते की जरूरत होती है।

हस्थमैथुन करने वाली महिलाओं में पीरियड, मासिक धर्म अथवा मेंसुरेशन साइकिल जैसी परेशानियों के साथ ही गुप्‍तांग में सूखापन भी देखा जाता है। ज्यादातर हस्तमैथुन वे महिलाएं करती हैं। जो नियमित रूप से पॉर्न देखती हैं या अकेलेपन का शिकार होती है। 

लड़कियां हस्तमैथुन करते समय अपने स्तनों को दबाती रहती हैं। क्योंकि लड़कियों को हस्तमैथून करते समय स्तनों को दबाना काफी उत्तेजित करता है। योनि में उंगली डालते समय लड़कियां अपने पार्टनर को याद करती हैं, जिससे लड़की का अंग धीरे-धीरे गीला होता जाता है और लड़की परमसीमा तक पहुंच पाती है।


भारत में इस टॉपिक पर कम बात की जाती हैं। एक यह भी बड़ा कारण है कि यहां की महिलाएं इतना मास्टरबेशन नहीं करतीं। रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत की 37 प्रतिशत महिलाएं हस्तमैथुन करती हैं। वहीं, भारत में 70 प्रतिशत पुरुष हस्तमैथुन करते हैं।

जिस तरह से पुरुषों के शरीर में उत्तेजना आती हैए उसी तरह से महिलाओं के शरीर में भी उत्तेजना आती है। बहुत सारे लोगों को लगता है कि हस्तमैथुन सिर्फ लड़कों द्वारा और पुरुषों द्वारा किया जाता है। महिलाओं के शरीर में जब उत्तेजना आती है और कामवासना आती है, तब महिला हस्तमैथुन करती है।