इस सरकारी स्कीम में दोगुने हो जाएंगे आपके पैसे, पैसा भी रहेगा सुरक्षित, जानिए पूरी स्कीम

 | 
Kisan vikas patra, Kisan Vikas Patra interest rates, Post Office Saving Scheme, small savings scheme, small savings schemes
अगर आप आने वाले दिनों में निवेश करने की सोच रहे हैं, तो पोस्ट ऑफिस की सेविंग्स स्कीम्स (Saving Schemes) में कर सकते हैं। इन स्कीम्स में आपको अच्छा रिटर्न तो मिलता ही है। साथ में, इसमें निवेश किया गया पैसा भी पूरी तरह सुरक्षित रहता है। अगर बैंक डिफॉल्ट (Bank Default) होता है, तो आपको पांच लाख रुपये की ही राशि वापस मिलती है। लेकिन डाकघर (Post Office) में ऐसा नहीं है। इसके अलावा पोस्ट ऑफिस की सेविंग्स स्कीम्स में बेहद कम राशि से निवेश शुरू किया जा सकता है।

पोस्ट ऑफिस की स्मॉल सेविंग स्कीम्स में किसान विकास पत्र यानी KVP भी शामिल है। आइए इस स्कीम के बारे में डिटेल में जानते हैं।


ब्याज दर
पोस्ट ऑफिस की किसान विकास पत्र में मौजूदा समय में सालाना 6।9 फीसदी की ब्याज दर मौजूद है। निवेश की राशि 124 महीने यानी 10 साल और 4 महीने में दोगुनी हो जाएगी।

निवेश की राशि
डाकघर की इस योजना में कम से कम 1,000 रुपये और 100 रुपये के मल्टीपल में निवेश किया जा सकता है। इस स्कीम में निवेश की कोई अधिकतम राशि मौजूद नहीं है।

कौन खोल सकता है अकाउंट?
पोस्ट ऑफिस की किसान विकास पत्र स्कीम में एक वयस्क, तीन वयस्क तक साथ मिलकर ज्वॉइंट अकाउंट खोल सकते हैं। इसके अलावा नाबालिग की ओर से अभिभावक या कमजोर दिमाग के व्यक्ति की ओर से व्यक्ति भी खाता खोल सकता है। इस योजना में 10 साल से ज्यादा उम्र का नाबालिग अपने खुद के नाम में भी अकाउंट खोल सकता है।

मैच्योरिटी
किसान विकास पत्र में जमा की गई राशि वित्त मंत्रालय द्वारा जमा की तारीख से वित्त मंत्रालय द्वारा समय-समय पर निर्धारित मैच्योरिटी की अवधि पर मैच्योर हो जाएगी।

अकाउंट को ट्रांसफर या गिरवी रखना
किसान विकास पत्र को सिक्योरिटी के तौर पर गिरवी या ट्रांसफर किया जा सकता है। इसके लिए व्यक्ति को गिरवी रखने वाले से मंजूरी के खत के साथ संबंधित पोस्ट ऑफिस पर सब्मिट करना होगा। ट्रांसफर या प्लेजिंग भारत के राष्ट्रपति या राज्य के गवर्नर, आरबीआई या शेड्यूल्ड बैंक या कॉपरेटिव सोसायटी या कॉपरेटिव बैंक के पास रखा जा सकता है। इसके अलावा सरकारी या निजी कॉरपोरेशन, सरकारी कंपनी, स्थानीय अथॉरिटी या हाउसिंग फाइनेंस कंपनी के पास भी ट्रांसफर या गिरवी रखा जा सकता है।