राजनीति

जालोर: छात्र के परिजन को सरकारी नौकरी की मांग पर CM अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कही ये बड़ी बात

S Kumar
19 Aug 2022 3:19 AM GMT
जालोर: छात्र के परिजन को सरकारी नौकरी की मांग पर CM अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कही ये बड़ी बात
x
जालोर में सुराणा गांव में छात्र इंद्र मेघवाल की मौत के मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बड़ा बयान सामने आया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने एक ट्वीट में लिखा कि ‘जालोर में 9 साल के मासूम बच्चे की मृत्यु से पूरा देश आहत है.

जालोर. जालोर में सुराणा गांव में छात्र इंद्र मेघवाल की मौत के मामले में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का बड़ा बयान सामने आया है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने अपने एक ट्वीट में लिखा कि 'जालोर में 9 साल के मासूम बच्चे की मृत्यु से पूरा देश आहत है. अहमदाबाद में विधायक जिग्नेश मेवानी ने मिलकर घटना पर चर्चा की. इस दुख में सभी समाज परिवार के साथ है. घटना के बाद आरोपी की त्वरित गिरफ्तारी की गई. SC-ST एक्ट की मुआवजा राशि और मुख्यमंत्री सहायता कोष से सहायता राशि दी गई. इसके अतिरिक्त AICC के निर्देश पर पीड़ित परिवार को 20 लाख रुपये की आर्थिक मदद प्रदेश कांग्रेस कमिटी द्वारा दी जा रही है. परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने के संबंध में पूर्व के मामलों का परीक्षण करवाया जा रहा है. इस मामले को केस ऑफिसर स्कीम में लिया गया है जिससे फास्ट ट्रैक ट्रायल करवाया जा सके.'

गौरतलब है कि पीड़ित परिवार को 50 लाख का मुआवजा और एक परिजन की सरकारी नौकरी देने की मांग की जा रही है. इससे पहले, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा था कि मासूम छात्र इन्द्र मेघवाल की दु:खद मृत्यु के दोषी को शीघ्र सख़्त सजा दिलाएंगे. CM सहायता कोष से 5 लाख के अतिरिक्त प्रदेश कांग्रेस पीड़ित परिवार को 20 लाख की अतिरिक्त आर्थिक सहायता करेगी. सरकार द्वारा नौकरी हेतु भी सकारात्मक निर्णय लिया जाएगा.


दलित छात्र इंद्र मेघवाल की मौत का मामला इस समय प्रदेश की राजनीति का केंद्र बना हुआ है. आज 36 कौम के हजारों की संख्या में लोग जालोर जिला मुख्यालय प्रदर्शन करेंगे. जिला कलेक्ट्रेट पहुंचकर ज्ञापन सौंपा जाएगा. पूरे प्रकरण में मटकी की सच्चाई और छुआछूत के आरोप की निष्पक्ष जांच की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा जाएगा. सुराणा में ADG क्राइम रवि प्रकाश सायला पहुंचे है. इसके अलावा, जोधपुर रेंज IG भी सायला पहुंचे हैं. SP हर्षवर्धन अग्रवाला भी साथ में मौजूद हैं.

इसी बीच, राजस्‍थान के ग्रामीण विकास राज्य मंत्री राजेंद्र गुढ़ा ने दलित छात्र की मौत के प्रकरण में पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने की वकालत करते हुए बुधवार को कहा कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो मूल रूप से बसपा के चुनाव चिन्ह पर निर्वाचित हुए विधायक कांग्रेस नीत सरकार से समर्थन वापस लेने से पीछे नहीं हटेंगे. मंत्री ने कहा कि किसी भी अपराध को किसी समाज विशेष से नहीं जोड़ा जाना चाहिए. गुढ़ा उन छह विधायकों में से हैं जिन्‍होंने 2018 का विधानसभा चुनाव बसपा की टिकट पर जीता था लेकिन बाद में कांग्रेस में शामिल हो गए थे.

गौरतलब है कि जालौर में नौ वर्षीय दलित छात्र इंद्र कुमार को 20 जुलाई को स्कूल में घड़े को छूने के आरोप में कथि‍त तौर पर एक शिक्षक ने पीटा था. उसकी 13 अगस्‍त को अहमदाबाद के एक अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी. इस मामले में आरोपी शिक्षक छैल सिंह (40) को गिरफ्तार किया जा चुका है.

Next Story