पुलिस से बचने के लिए राज्यसभा सदस्य ने लगाई सड़क पर दौड़, जानिए पूरा मामला

राजस्थान में सांसद का वीडियो खूब वायरल हो रहा है। राज्यसभा सदस्य किरोड़ी लाल मीणा सड़क पर दौड़ लगा रहे हैं। कुछ ही दूरी पर पुलिस उन्हें दबोच लेती है।
 | 
पुलिस से बचने के लिए सांसद ने लगाई सड़क पर दौड़, जानिए पूरा मामला

दरअसल राज्यसभा सांसद किरोड़ी लाल मीणा का एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है। उदयपुर में पुलिस निगरानी के बाद मीणा देर शाम अजमेर पहुंच गए थे। वहां से पुष्कर जाने लगे। यहां किरोड़ी लाल मीणा को जिला पुलिस ने ब्यावर रोड स्थित कृषि उपज मंडी के बाहर ही रोक लिया। सांसद ने पुलिस के इस रवैये पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि राजस्थान सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। पुलिस भी जबरदस्ती कर रही है। 

 
इस दौरान पुलिस को चकमा देते हुए सांसद एकदम से ब्यावर रोड हाईवे पर दौड़ने लगे। उन्हें पकड़ने के लिए पुलिस भी पीछे.पीछे थी। कुछ ही दूरी पर पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। इसके बाद जयपुर की तरफ भेज दिया। किरोड़ी लाल मीणा अजमेर में वीरवार शाम करीब 7ण्30 बजे पुलिस निगरानी के बीच ब्यावर रोड हाईवे पर पैदल चल रहे थे। 

कुछ देर चलने के बाद वह अपनी गाड़ी में बैठे। फिर पत्रकारों से कहा कि मेरी दौड़ देखी है। अगर नहीं देखी तो देखो। इसके बाद वह अपनी गाड़ी से उतरे और दौड़ लगाना शुरू कर दिया। मीणा के दौड़ लगाने के बाद पुलिस के आला अधिकारी भी उनके पीछे दौड़ लगाते हुए दिखे और उन्हें पकड़ कर वापस उनकी गाड़ी में बैठा दिया। इसके बाद वह अपनी गाड़ी में बैठ कर जयपुर की तरफ निकल गए।

मीणा ने सरकार पर हमलावर होते हुए कहा कि राजस्थान सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। उनके मौलिक अधिकार को भी छीना जा रहा है। उन्होंने कहा कि वह उदयपुर कार्यकर्ताओं से मुलाकात करने गए थे। इस दौरान पत्रकार वार्ता भी की जानी थी। उन्हें उदयपुर पुलिस ने निगरानी में रखा। पत्रकार वार्ता भी नहीं करने दी गई। 

उन्होंने कहा कि एक तरफ तो कांग्रेस चिंतन शिविर कर रही है। दूसरी तरफ आदिवासी लोगों पर अत्याचार हो रहे हैं। बेटियों के साथ रेप की घटनाएं बढ़ रही हैं। उदयपुर में जिस होटल में चिंतन शिविर किया जा रहा हैए वह भी मुख्यमंत्री के देखरेख में अवैध रूप से बनाया गया है। किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि आदिवासी हितों को लेकर सरकार कुछ नहीं कर रही है।


 
इस तरह की आवाज उठाने पर उन्हें पुलिस निगरानी में रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि उदयपुर पुलिस ने उन्हें सभी काम करने से रोक दिया गया। सुबह से ही उन्हें परेशान किया जा रहा है। गणेश धाम के दर्शन भी उन्हें नहीं करने दिए गए। इसके बाद उदयपुर से कई किलोमीटर दूर पुष्कर में भी उन्हें नहीं छोड़ा गया। उन्होंने आरोप लगाया कि राजस्थान सरकार पुलिस का दुरुपयोग करते हुए मौलिक अधिकारों का हनन कर रही है। 

इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर जेल में डाल दे। वह आदिवासी और दलित उत्पीड़न के साथ ही परेशान जनता की आवाज उठाते रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि वे पुष्कर तो जाकर रहेंगे। किरोड़ी के अजमेर प्रवास के दौरान ब्यावर रोड पर अजमेर जिला पुलिस के काफी जवान तैनात किए गए थे। सांसद ने सरकार के खिलाफ और भी गंभीर आरोप लगाए।