दो बार प्रधानमंत्री बनना काफी नहीं, PM मोदी बोले मैं दूसरी धातु का बना हूं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि भले ही वह दो बार देश के प्रधानमंत्री बन गए हों लेकिन उनका इरादा ‘‘आराम'' करने का नहीं है, बल्कि उनका सपना सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करना है और इसके लिए वह नए संकल्पों और नई ऊर्जा से जुट जाने की तैयारी में हैं। 

 | 
दो बार प्रधानमंत्री बनना काफी नहीं, PM मोदी बोले मैं दूसरी धातु का बना हूं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बृहस्पतिवार को कहा कि भले ही वह दो बार देश के प्रधानमंत्री बन गए हों लेकिन उनका इरादा ‘‘आराम'' करने का नहीं है, बल्कि उनका सपना सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करना है और इसके लिए वह नए संकल्पों और नई ऊर्जा से जुट जाने की तैयारी में हैं। 

यहां ‘‘उत्कर्ष समारोह'' को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने बताया कि एक दिन विपक्ष के एक ‘‘बहुत बड़े नेता'' उनसे मिलने आए थे और उन्होंने उनसे कहा था कि ‘‘मोदी जी ये क्या करना है। दो दो बार आपको देश ने प्रधानमंत्री बना दिया। अब क्या करना है।'' प्रधानमंत्री ने उक्त नेता का नाम नहीं बताया लेकिन कहा कि वो उनका राजनीतिक विरोध करते रहते हैं लेकिन ‘‘मैं उनका आदर भी करता रहता हूं''। 

मोदी ने कहा, ‘‘उनको (विपक्षी नेता) लगता था कि दो बार प्रधानमंत्री बन गया मतलब बहुत कुछ हो गया। उनको पता नहीं है मोदी किसी अलग मिट्टी का है। ये गुजरात की धरती ने उसको तैयार किया है और इसलिए जो भी हो गया, अच्छा हो गया ,चलो अब आराम करो, नहीं मेरा सपना है – सैचुरेशन।'' 

उन्होंने कहा कि योजनाओं के शत-प्रतिशत लक्ष्य की तरफ उनकी सरकार आगे बढ़ी है और अब सरकारी मशीनरी को भी इसकी आदत डालनी है। उन्होंने कहा कि पिछले करीब आठ वर्षों में सभी के प्रयासों से अनेक योजनाओं को शत प्रतिशत ‘‘सैचुरेशन'' के करीब-करीब ला पाने में सफलता मिली है। मोदी ने कहा, ‘‘अब आठ वर्ष के इस महत्वपूर्ण अवसर पर, एक बार फिर कमर कस करके, सबका साथ लेकर के, सबके प्रयास से आगे बढ़ना ही है और हर जरूरतमंद को, हर हकदार को उसका हक दिलाने के लिए जी–जान से जुट जाना है।''