पुरानी कार खरीदने वालों के लिए काम की खबर, खरीददारी के वक्त ध्यान रखें ये 5 बातें, मिलेगी बेहतर डील

 | 
पुरानी कार खरीदने वालों के लिए काम की खबर, खरीददारी के वक्त ध्यान रखें ये 5 बातें, मिलेगी बेहतर डील

पिछले कुछ समय से पुरानी कारों (Pre-Owned Car) के बाजार में तेजी देखने को मिली हैव्.और ये सेग्मेंट और ज्यादा संगठित और व्यवस्थित हो गया है. कोविड की वजह से लोगों की आय में असर पड़ने से भी वो अब पुरानी कारों में विकल्प तलाश रहें हैं. इसके साथ ही बैंकों और वित्तीय संस्थानों के द्वारा कर्ज ( Car Loan) की सुविधा देने और विक्रेताओं के द्वारा सर्टिफाइड कार और उन पर सर्विस ऑफर करने से भी पुरानी कारों को लेकर भरोसा बढ़ रहा है. हालांकि नई कारों के मुकाबले पुरानी कारों को खरीदने में कई वजहों सतर्कता की जरूरत कहीं ज्यादा होती है, अगर आप पुरानी कार खऱीदने जा रहे हैं तो मारुति ट्र वैल्यू (Maruti True Value) के द्वारा दी गयी इन सलाहों का फायदा उठा सकते हैं.

पुरानी कार खरीदते वक्त इन 5 बातों का रखें ध्यान

  • बजट: मारुति ट्रू वैल्यू सलाह देता है कि पुरानी कार खरीदने के लिये पहले से अपने बजट को तैयार कर रखें. इसके साथ ही मिलने वाले फाइनेंस के विकल्प पर भी ध्यान रखें. ब्लॉग के मुताबिक 4 से 6 लाख रुपये की रकम आपको एक हैचबैक, कॉम्पैक्ट एसयूवी का मालिक बना सकती है. बजट रहेगा तो आप न केवल आसानी से खरीद पूरी कर पायेंगे वही जरूरत के अनुसार और बेहतर विकल्पों पर भी नजर दौड़ा सकेंगे.

  • व्हीकल : ट्रू-वैल्यू के मुताबिक पुरानी गाड़ी खरीदते वक्त किस टाइप का व्हीकल लेना है इसके बारे में पहले से सोच कर रखें. इसमें कार की बॉडी का टाइप (हैचबैक, सेडान, एसयूवी आदि), फ्यूल टाइप (पेट्रोल, डीजल या सीएनजी), और इस्तेमाल आदि शमिल होते हैं. अगर आप ये सब दिमाग में रखेंगे तो आपकी लिस्ट छोटी हो जायेगी और आप ज्यादा बेहतर फैसले ले सकेंगे.

  • वाहन की उम्र: एक बार आपने बजट और व्हीकल तय कर लिया तो इसके बाद देखें कि इसके साथ आप कौन सी गाड़ियां खरीद सकते हैं, जैसे 3 से 5 लाख रुपये तक में आप 3 साल तक पुरानी हैचबैक ले सकते हैं. वहीं 5 साल पुरानी सेडान भी ले सकते हैं. अगर डीजल कार लेना चाहते हैं तो ज्यादा सतर्क रहें क्योंकि संभव है कि दिल्ली के बाद कुछ और शहरों में 10 साल से पुरानी डीजल कारों पर प्रतिबंध लगा दिया जाये.

  • OEM या मालिक से सीधे डील: ओईएम और कार के मालिक से खरीदने के अपने फायदे या नुकसान हो सकते हैं. कार के मालिक से सीधे खरीदने पर संभव है कि आप डील में कुछ पैसे बचा लें लेकिन इसमें इस बात की भी संभावना है कि आपको खराब क्वालिटी की कार मिल जाये.वहीं ओईएम अपने स्तर पर कार को चेक करते हैं और उसे पूरी तरह फिट करके ही आगे देते हैं , दोनो ही स्थिति में आपको फायदा तब होगा जब कार को लेकर किसी बात का कोई शक न हो.

  • डाक्यूमेंटशन: पुरानी कारों को खरीदने में सबसे बड़ी समस्या दस्तावेजों की होती है. पुरानी कारों की खरीद अगर अपने स्तरों पर की जा रही है तो पहले देख लें कि क्या कार पर कोई कर्ज तो नहीं चल रहा है.या किसी तरह का कोई भुगतान तो नहीं है. अगर पैसों को लेकर कोई शंका नहीं है तो खरीद पूरी करने से पहले सभी डॉक्यूमेंट्स से जुड़ी औपचारिकतायें पूरी कर लें, ट्रू वैल्यू सलाह देता है कि यहां तक भी डुप्लीकेट चाभी को भी ले लें. अगर ये काम आपको मुश्किल लगते हैं तो किसी प्रोफेश्नल की मदद भी ले सकते हैं.