21 साल तक मरी हुई बीवी की लाश के साथ रहा शख्स, फिर कर दिया ऐसा काम की लोग हैरान रह गए

थाईलैंड में एक अधेड़ शख्स ने जब 21 साल पहले अपनी पत्नी को खोया, तब उसके लिए इस सदमे को मन पाना काफी मुश्किल हो गया। उसने पत्नी का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया और उसकी बॉडी के साथ रहने लगा।
 | 
21 साल तक मरी हुई बीवी की लाश के साथ रहा शख्स, फिर कर दिया ऐसा काम की लोग हैरान रह गए 

अपने को खो देना किसी बूरे सपने से कम नहीं होता। लेकिन जाने वाले को भला कोई रोक पाया है? जिसे जाना होता है, वो चला ही जाता है। हालांकि, कुछ लोग इसे किस्मत मान एक्सेप्ट कर लेते हैं तो किसी के लिए इसे मान पाना काफी मुश्किल होता है।

थाईलैंड में एक अधेड़ शख्स ने जब 21 साल पहले अपनी पत्नी को खोया, तब उसके लिए इस सदमे को मन पाना काफी मुश्किल हो गया। उसने पत्नी का अंतिम संस्कार करने से इंकार कर दिया और उसकी बॉडी के साथ रहने लगा।
 
72 साल के चरन जणवाचकल की पत्नी की मौत 2001 में हो गई थी। उसकी पत्नी पब्लिक हेल्थ मिनिस्ट्री में काम करती थी। पत्नी की मौत के बाद चरन ने उसकी बॉडी को अपने घर में स्टोरेज रुम में एक कॉफिन के अंदर रखा हुआ था।

उसका कहना था कि वो अपनी पत्नी से बहुत प्यार करता है और उससे अलग नहीं रहना चाहता। इसलिए उसने अपनी पत्नी की डेड बॉडी को दफ़नाने की जगह उसे घर पर ही रखा हुआ था। कई लोगों के समझाने के बाद भी उसने अपनी बीवी की बॉडी को नहीं दफनाया। लेकिन अब जाकर उसने पत्नी की आत्मा को शांति दे दी है।

भारी मन से कहा अलविदा
चरन ने इस साल 30 अप्रैल को अपनी पत्नी की बॉडी को दफना दिया। उसने फेट कसम बैंकाक फाउंडेशन के साथ मिलकर पत्नी का अंतिम संस्कार किया। इस दौरान चरन फूट-फूटकर रोता दिखाई दिया।

उन अपनी पत्नी को बंग खेन डिस्ट्रिक्ट में दफनाया। अपनी पत्नी की बॉडी से बात करने हुए चरन उसे जल्द लौटा कर ले आने का वादा करता नजर आया।

 
लोग अपनी पत्नी की लाश के साथ 21 साल रहने वाले इस पति को ऐसे रोते देख हैरान थे। प्यार की ये परिभाषा कई लोगों को हैरान कर गई। चरन अपनी पत्नी की बॉडी के साथ बातें करता था और उसके साथ इस तरह से रहता था जैसे वो जिन्दा हो।

पत्नी की मौत के बाद से हुआ अकेला
चरन बीते 21 सालों से अकेलेपन की जिंदगी बिता रहा है। उसकी कई मेडिकल डिग्री देखकर पता चलता है कि वो कभी रॉयल थाई आर्मी में मेडिक था। उसने नामी-गिरामी यूनिवर्सिटी स डिग्री ली है। लेकिन बीते बीस सालों से वो अकेलपन में जिंदगी काट रहा था। उसे ज्यादातर अपने पालतू बिल्ली और कुत्ते के साथ समय बिताते देखा गया था।

वो जिस घर में रहता है वहां ना बिजली है ना पानी। पानी के लिए वो पड़ोसी के घर पर निर्भर करता है। चरन ने अपनी पत्नी का अंतिम संस्कार करने का फैसला ख़ास वजह से किया। उसे ऐसा लगा कि अगर उसकी मौत हो गई तो उसकी पत्नी का सही तरीके से अंतिम संस्कार कौन करेगा।