हरियाणा

बैंक में पैसा रख चाहते हैं दोगुना मुनाफा, ये 5 बैंक FD पर देते हैं सबसे धांसू ब्याज

CH Silven
22 Sep 2022 2:43 PM GMT
बैंक में पैसा रख चाहते हैं दोगुना मुनाफा, ये 5 बैंक FD पर देते हैं सबसे धांसू ब्याज
x
High Intrest FD: हमारे देश में आज भी लोग निवेश करने के लिए FD को ही सबसे ज्यादा महत्व देते हैं, क्योंकि इसमें किसी तरह का कोई जोखिम नहीं होता है. इसमें लंबे समय में आपको अच्छा खासा रिटर्न मिलता है. आज हम आपको ऐसे 5 बैंकों के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां सबसे ज्यादा ब्याज दर है.

Fixed Diposite: देश में सबसे ज्यादातर लोग निवेश के लिए सबसे अच्छा और आसान तरीका फिक्ड डिपॉजिट (FD) को मानते हैं, क्योंकि इसमें किसी भी तरह का कोई रिस्क नहीं होता है. इसलिए आज भी लोग नौकरी लगते ही सबसे पहले FD ही खुलवाते हैं. बस ये देखना होता है कि कौन-सा बैंक कितनी ब्याज दे रहा है तो चलिए आपको बताते हैं ऐसे 5 बैंकों के बारे में बताएंगे जो 6% से ज्यादा ब्याज देते हैं.

आपको बता दें कि अभी डीसीबी बैंक (DCB Bank), आरबीएल बैंक (RBL Bank), इंडसइंड बैंक (Indusind Bank), एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) और आईडीएफसी फर्स्ट बैंक (IDFC First Bank) 5 साल की FD पर सबसे ज्यादा ब्याज दे रहे हैं. बता दें कि इन बैंकों में अपको 6.10% से लेकर 6.75% तक का ब्याज मिल रहा है. इनमें भी सबसे ज्यादा ब्याज इंडसइंड बैंक दे रहा है. यह बैंक 5 साल की FD पर 6.75% ब्याज दे रहा है. इसके बाद DCB बैंक 6.60% ब्याज दे रहा है. वहीं RBL Bank 6.55% ब्याज दे रहा है. IDFC First Bank 6.50% ब्याज दे रहा है. HDFC Bank 6.10% ब्याज दे रहा है

बता दें कि FD भी दो तरह की होती हैं. एक फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposits) जिसे फिक्स्ड रेट एफडी कहते हैं. वहीं दूसरी फ्लोटिंग रेट एफडी होती है. FD में निवेश के दौरान ब्याज की दरों में कोई बदलाव नहीं होता है. उसे फिक्स्ड रेट एफडी कहते हैं. वहीं फ्लोटिंग रेट एफडी की ब्याज दरों में बदलाव होता है. पिछले दिनों RBI ने रेपो रेट में बढ़ोतरी की थी. उसके बाद से ही फ्लोटिंग रेट एफडी चर्चा में आई थी.

अब आपको तय करना है कि आपको फ्लोटिंग रेट एफडी लेनी है या फिक्स्ड रेट वाली एफडी लेनी है. मौजूदा समय को देखते हुए बताए तो फ्लोटिंग रेट एफडी ज्‍यादा मुनाफे वाली साबित होगी, लेकिन अगर बैंक इसमें कटौती करना शुरू कर दे तो आपको नुकसान होगा. इसमें एक तरह से रिस्क हैं, क्योंकि बैंक की दरों में कब इजाफा होगा और कब गिरावट आएगी ये कोई नहीं बता सकता. वहीं फिक्स्ड रेट वाली एफडी में ब्याज पहले से ही तय हो जाएगा. अब चाहे ब्याज दर बढ़े या घटे आपकी ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं होगा. बता दें कि अभी सभी बैंक फ्लोटिंग रेट एफडी का ऑप्शन नहीं दे रहे हैं.

Next Story