प्याज की खेती पर हरियाणा का बड़ा दांव, इन दो योजनाओं से मिल रही 44000 रुपये की मद

किसानों को प्याज के बीज के लिए 4000 रुपये की छूट देगी हरियाणा सरकार। खेती के लिए प्रति एकड़ मिलेंगे 8000 रुपये। प्याज की खेती में अभी कहां ठहरता है हरियाणा।
 | 
farmers schemes, Horticulture crops, Kisan, Onion, Onion farming
Onion Farming:हरियाणा सरकार प्याज की खेती (Onion Farming) को भी बढ़ावा देने में जुट गई है। इसके लिए किसानों को आर्थिक प्रोत्साहन देने की शुरुआत की गई है। खेती करने के लिए पैसा भी मिलेगा और बीज पर छूट भी दी जाएगी। किसानों (Farmers) को खरीफ प्याज की खेती के लिए बीज की दो किस्मों की खरीद पर 500 रुपये प्रति किलोग्राम की छूट दी जाएगी। 

किसान भाई इस योजना (Farmers Schemes) के लाभ के लिए दी गई हिदायतों को पूरा कर बीज केंद्रों से यह लाभ उठा सकते हैं। एक किसान छूट पर अधिकतम 8 किलो बीज ले सकेगा। यानी उसे 4000 रुपये का फायदा मिलेगा। यहां प्याज की खेती करने वाला किसान एक सीजन में 44000 रुपये तक की मदद ले सकता है।

एएफडीआर किस्म की प्याज के बीज (Onion Seed) का दाम 1950 रुपये प्रति किलो है। पांच सौ रुपये की छूट के साथ यह 1450 रुपये के रेट पर मिलेगा। जबकि भीमा सुपर किस्म का भी यही रेट पड़ेगा। बीज बिक्री केंद्र करनाल, हिसार एवं नूंह (मेवात) से इसे लिया जा सकता है। बिक्री केंद्र में फोटो सहित पहचान पत्र एवं मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन की कॉपी देनी होगी। किसान भाई-बहन इस संबंध में अपने जिला बागवानी अधिकारी से भी संपर्क कर सकते हैं।


किसानों को 40 हजार रुपये तक की मदद
प्याज की खेती करने के लिए यहां सरकार किसानों को 40 हजार रुपये तक की मदद दे रही है। एकीकृत बागवानी विकास मिशन (MIDH-Mission for Integrated Development of Horticulture) के तहत खरीफ सीजन में प्याज की खेती के लिए प्रति एकड़ 8000 रुपए मिलेंगे। यह मदद अधिकतम 5 एकड़ तक के लिए ली जा सकती है। शर्तों को पूरा करने पर यह पैसा सीधे किसान के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर कर दिया जाएगा। यानी खेती के लिए प्रोत्साहन राशि और बीज पर मिल रही छूट मिलाकर किसान 44000 रुपये तक का फायदा उठा सकते हैं।

इसके लिए क्या करना होगा?
इस योजना का लाभ उठाने के इच्छुक किसानों को (https://hortnet.gov.in/) पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करना होगा। इसके बाद सभी संबंधित कागजात अपने जिले के बागवानी अधिकारी कार्यालय में जमा करवाने होंगे। इसमें राजस्व रिकॉर्ड सबसे अहम होगा। इसके अलावा फोटो, आधार कार्ड नंबर और बैंक पासबुक की कॉपी जमा करनी होगी।

हरियाणा में प्याज का कितना उत्पादन
केंद्रीय कृषि मंत्रालय की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2019-20 के दौरान हरियाणा में 23000.75 हेक्टेयर में प्याज की खेती हुई। जो देश का 1।66 था। जबकि 610000.44 टन प्याज का उत्पादन हुआ था। यहां प्रति हेक्टेयर उत्पादकता 25704 किलो रही, जो देश में सबसे अधिक है। यहां तक कि महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और गुजराज से भी। हालांकि, साल 2018-19 में यहां 32000.01 हेक्टेयर में प्याज की खेती हुई थी। हरियाणा में सबसे ज्यादा प्याज उत्पादन करने वाला जिला मेवात है।