हरियाणा के इन जिलों में लगेंगे Smart Meter बिजली मीटर, बिजली चोरी से मिलेगी निजात

 | 
Smart Meter

हरियाणा के इन पांच जिलों में जल्द ही स्मार्ट मीटर लगने वाले हैं। आपको बता दें कि अंबाला में डिजिटल मीटर लाने का काम 90 प्रतिशत पूरा हो गया है। करीब तीन हजार पुराने मीटरों को बदलने का काम बचा है। बिजली निगम के अधिकारियों की मानें तो 31 मई तक मीटर बदलने का काम पूरा हो जाएगा। डिजिटल मीटर लगने से न केवल उपभोक्ताओं को फायदा होगा बल्कि निगम को भी कई परेशानियों से छुट्टी मिलेगी।

ऑफिस में बैठकर ही निगम अधिकारियों को हर मीटर के जरिए खर्च होने वाली बिजली का पता चल जाएगा। रीडिंग के लिए किसी को भी घर-घर भेजने की जरुरत नहीं पड़ेगी।


इन पांच जिलों में शुरू हुई थी योजना

बिजली निगम द्वारा प्रदेश के पांच जिलों गुरुग्राम, फरीदाबाद, अंबाला, करनाल तथा पंचकूला में बिजली के डिजिटल मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू की गई थी। इन सभी जिलों में डिजिटल मीटर बदलने की कार्रवाई निरंतर चल रही है। आने वाले 15 से 20 दिनों में सभी पुराने मीटर बदलने की बात कही जा रही है।

इन जिलों के बाद ही प्रदेश के दूसरे जिलों में डिजिटल मीटर लगाए जाने की योजना है। डिजिटल मीटर के ये होंगे फायदे डिजिटल मीटर के कई फायदे होंगे। इससे उपभोक्ताओं को भी राहत मिलेगी।


 
इस मीटर को बंद व चालू करने की प्रक्रिया उपभोक्ता स्वयं कर सकेंगे। मीटर का कंट्रोल निगम के कार्यालय में मीटर का कंट्रोल निगम के कार्यालय में रहेगा। इससे मीटर की रीडिंग व गलत बिजली बिल संबंधी समस्याओं से निजात मिलेगी।

स्मार्ट मीटर लगने के बाद निगम का कोई भी कर्मचारी रीडिंग लेने नहीं आएगा। मीटर नेट से ही निगम के सर्वर से जुड़ा होने के कारण बैठे बैठे ही रीडिंग निकाली जा सकेगी। उपभोक्ता भी अपनी मोबाइल फोन में हर रोज खर्च होने वाली बिजली की जानकारी ले पाएंगे।

डिजिटल मीटर लगने के बाद बिजली भी निगम कार्यालय में ही बैठकर ऑनलाइन व ऑफलाइन जारी किए जाएंगे। रीडिंग को लेकर होने वाली लापरवाही नहीं होगी। कई बार गलत रीडिंग के कारण उपभोक्ताओं को कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इन दिक्कतों का स्थायी समाधान हो जाएगा।


 
 90 फीसदी कार्य पूरा, 31 तक होगा पूरा बिजली निगम के एक्सईएन सुखबीर सिंह ने बताया कि यहां डिजिटल मीटर लगाने का काम 90 फीसदी पूरा हो गया है। अगर 15-20 दिन में सभी पुराने मीटर बदलकर डिजिटल मीटर लगा दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि निसंदेह ये मीटर लगने से उपभोक्ताओं के साथ निगम को काफी फायदा होगा।


बिजली चोरी रुकेगी। साथ ही रीडिंग का झंझट भी खत्म हो जाएगा। मोबाइल फोन पर ही उपभोक्ता अपने घर में इस्तेमाल होने वाली बिजली की जानकारी ले पाएगा। पुराने मीटरों में ऐसी कोई सुविधा नहीं थी। इसी वजह से इन मीटरों को बदलने का निर्णय लिया गया। उन्होंने बताया कि यह योजना अभी पांच जिलों में चल रही है। इसके बाद अन्य जिलों में यह योजना शुरू होगी।