Ram Rahim: आज राम राहीम की 40 दिनों की पैरोल खत्म, सुनारिया जेल में होगी वापसी

पैरोल अवधि में राम रहीम ने हर रोज यूट्यूब अकाउंट पर ऑनलाइन सत्संग किया। गुरुगद्दी को लेकर राम रहीम ने कहा था कि हम थे, हम है, हम ही रहेंगे। हनीप्रीत को रूहानी दीदी का पद भी दिया था। शुक्रवार सुबह पुलिस की एक टीम बागपत रवाना होगी। एसपी उदय सिंह मीना ने बताया कि जैसे ही मुख्यालय से आदेश आएंगे, तुरंत टीम रवाना हो जाएगी। 

 | 
Ram rahim, ram rahim news, ram rahim latest news, ram rahim news today, डेरा सच्चा सौदा, haryana news, haryana latest news, सुनारिया जेल,Ram Rahim , Ram Rahim Parole , Ram Rahim Parole Challenged, Ram Rahim Parole Challenged in high court

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम के 40 दिनों के पैरोल का समय पूरा हो गया है। पुलिस उसे शुक्रवार को सुनारिया जेल लेकर आएगी। इसके लिए पुलिस ने जेल के आसपास की सुरक्षा बढ़ा दी है। डेरा प्रमुख गुरमीत सिंह राम रहीम 15 अक्तूबर को बरनावा के डेरा सच्चा सौदा आश्रम में पैरोल पर आया था। इस दौरान उसकी मुंहबोली बेटी हनीप्रीत व परिवार के अन्य सदस्य भी साथ आये थे। राम रहीम ने डेरे में रहकर दीपावली पर्व व डेरे के संस्थापक का जन्मोत्सव भी मनाया। 

हर रोज यूट्यूब अकाउंट पर ऑनलाइन होकर सत्संग किया। इस दौरान राम रहीम ने गुरुगद्दी को लेकर कहा हम थे, हम है, हम ही रहेंगे। राम रहीम ने हनीप्रीत को रूहानी दीदी का पद भी दिया। शुक्रवार सुबह पुलिस की एक टीम बागपत के लिए रवाना होगी। एसपी उदय सिंह मीना ने बताया कि जैसे ही मुख्यालय से आदेश आएंगे, तुरंत टीम रवाना हो जाएगी। 

पैरोल अवधि में 40 दिन साथ रहा डेरामुखी का परिवार, आखिरी दो दिन प्रबंधन के साथ मंत्रणा

पैरोल अवधि के दौरान डेरामुखी ने जहां एक ओर अनुयायियों से ऑनलाइन सत्संग के दौरान रू-ब-रू हुआ। वहीं, परिवार के साथ भी समय बिताया। विदेश से बेटियां भी लौट आईं और मुख्य शिष्या हनीप्रीत के साथ-साथ माता और पत्नी भी साथ रहीं। इतना ही नहीं डेरामुखी अपने गुरु शाह सतनाम महाराज के परिवार से भी ऑनलाइन रू-ब-रू हुआ और हालचाल जाना। पैरोल अवधि के आखिरी दो दिन के दौरान डेरामुखी प्रबंधन के साथ मंथन कर रहा है।

डेरामुखी ने बुधवार शाम को जारी अपने संदेश में अनुयायियों को कहा कि मानवता भलाई के कार्य रुकने नहीं चाहिए। डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत सिंह के गुरु शाह सतनाम महाराज के गांव जलालआना में अभी भी उनका परिवार रह रहा है। बताया जा रहा है कि इस गांव में पिछले 16 साल से डेरे का कोई कार्यक्रम नहीं हुआ था। इस बार ऑनलाइन गुरुकुल के दौरान गांव जलालआना में भी कार्यक्रम हुआ। इस कार्यक्रम में शाह सतनाम महाराज के पुत्र रणजीत सिंह की पत्नी नछत्रकूरे मौजूद थीं।