हरियाणा में 11,000 करोड़ रुपये लागत से तैयार होगा Maruti का नया प्रोडक्शन प्लांट, 800 एकड़ जमीन अलॉट

Maruti Suzuki New Production Plant: मारुति सुजुकी ने पिछले साल अपने तीसर प्रोडक्शन प्लांट के लिए जमीन ढूंढना शुरू किया था और अब हरियाणा के खरखौदा में कंपनी को 800 एकड़ लैंड अलॉट कर दिया गया है. ये संभावित रूप से कंपनी का सबसे बड़ा प्रोडक्शन प्लांट होगा जिसके 2025 तक तैयार होने का अनुमान है.
 | 
हरियाणा में 11,000 करोड़ रुपये लागत से तैयार होगा Maruti का नया प्रोडक्शन प्लांट, 800 एकड़ जमीन अलॉट

Maruti Suzuki New Production Plant: मारुति सुजुकी पिछले साल अपने तीसरे प्रोडक्शन प्लांट को लेकर काफी चर्चाओं में थी और कयास लगाए जा रहे थे कि कंपनी की नई मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी हरियाणा में तैयार की जाएगी. अब मारुति सुजुकी ने पुष्टि कर दी है कि इस नए प्रोडक्शन प्लांट के लिए जमीन का अलॉटमेंट हो गया है.

ये नया प्लांट सेनीपत के नजदीक खरखौदा में तैयार किया जाएगा जो 800 एकड़ में फैला होगा. जहां मारुति सुजुकी ने इस बारे में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी है, वहीं माना जा रहा है कि नया प्लांट कंपनी का सबसे बड़ा प्रोडक्शन प्लांट होगा.

11,000 करोड़ का निवेश
ये पहला प्लांट होगा जिसमें सालाना 2.5 लाख वाहनों का उत्पादन किया जाएगा और सभी अप्रूवल सही समय पर मिल जाएं तो इसे संभवतः 2025 तक बनाकर तैयार कर दिया जाएगा. इस प्लांट को बनाने के पहले पड़ाव में मारुति सुजुकी 11,000 करोड़ रुपये का निवेश करने वाली है. कंपनी ने ये भी बताया है कि इस प्लांट में उत्पादन बढ़ाने की क्षमता भी होगी और आने वाले समय में आवश्यक्ता के अनुसार इसमें नई प्रोडक्शन लाइन स्थापित की जा सकती है.

फिलहाल मारुति सुजुकी के हरियाणा में ही दो प्रोडक्शन प्लांट हैं जो मानेसर और गुरुग्राम में स्थित हैं. इसके अलावा गुजरात में भी एक प्रोडक्शन प्लांट है जिसपर सुजुकी का मालिकाना हम है.


किस प्लांट में बनती है कौर सी कार
मारुति सुजुकी के गुरुग्राम फैसिलिटी में तीन मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं जिनमें ऑल्टो 800, वैगनआर, अर्टिगा, एक्सएल6, एस-क्रॉस, विटारा ब्रेजा, इग्निस और ईको का उत्पादन किया जाता है. विदेशों में निर्यात करने के लिए जिम्नी का प्रोडक्शन इस प्लांट में 2021 से शुरू हो चुका है. कंपनी का मानेसर प्लांट 2007 में बनाया गया था जहां ऑल्टो, स्विफ्ट, सिआज, बलेनो और सेलेरियो कर प्रोडक्शन होता है.

बता दें कि पिछले कुछ महीनों से सेमीकंडक्टर चिप की तंगी के चलते मारुति सुजुकी की कारों पर ग्राहकों को लंबी वेटिंग दी जा रही है, इसके अलावा आसमान छूती पेट्रोल-डीजल की कीमतों के चलते सीएनजी कारों की मांग में बड़ा इजाफा दर्ज किया गया है और बड़ी संख्या में ग्राहक अपनी सीएनजी कार की डिलीवरी का इंतजार कर रहे हैं.