हरियाणा राज्य में बना सबसे ऊंचा 73 फुट का पक्षी घर, जानिये क्या है इसकी खासियत

Bird house built in Haryana : प्रदेश में देश का सबसे बड़ा पक्षी घर बनकर तैयार हो गया है। इस पक्षीघर में हजारों पक्षी एकसाथ रह सकेंगे। इससे पहले देश में सबसे बड़ा  62 का पक्षी घर था। 

 | 
Bird house built in Haryana

हरियाणा के महेंद्रगढ़ (Mahendragarh) के गांव पाली (Village Pali) के बाबा जयराम दास धाम (Baba Jairam Das Dham) पर मंदिर कमेटी द्वारा ग्रामीणों के सहयोग से 15 लाख रुपये की लागत से महज 38 दिनों में आठ मंजिला देश का सबसे ऊंचा पक्षीघर बनाकर तैयार कर दिया है। 


धाम में बने इस पक्षीघर में तीन हजार पक्षी अपना परिवार बसा सकते हैं। इसके अलावा बाबा जयरामदास मंदिर कमेटी द्वारा दो वर्ष में जिला में ऐसे 25 पक्षी घर बनाने का लक्ष्य रखा गया है।


इस पक्षी घर का निर्माण गुजरात के पींटू ठेकेदार का सहयोग लिया गया। इसमें प्रयोग होने वाली आधुनिक निर्माण सामग्री भी गुजरात के शिद्धपुर (shidhpur) से मंगवाई गई है। कमेटी द्वारा मुख्यमंत्री (CM) को गत चार मई को पत्र लिखकर इसके उद्घाटन के लिए समय मांगा गया है। बाबा जयरामदास पशु-पक्षी एवं प्रकृति प्रेमी शिद्ध संत थे जिनके देशभर में लाखों भक्त हैं। बाबा के धाम पर 80 वर्ष पूर्व बने कमरे की ऊपरी दीवार पर पक्षियों (birds) के लिए बनाए गए घोंसलों से भक्तों को यह पक्षीघर बनाने का आइडिया मिला। 


हर मौसम में पक्षी रहेंगे सुरक्षित 


पक्षियों की सुरक्षा (protection of birds) को ध्यान में रखते हुए इसका ढांचा भूमि के 13 फुट अंदर से शुरू किया गया है। प्रथम मंजिल भी 14 फुट की ऊंचाई पर रहेगी। इसमें चढ़ने के लिए कोई सीढ़ी का प्रयोग भी नहीं किया गया है जिससे बिल्ली व अन्य छोटे जानवरों के हमले से भी पक्षी सुरक्षित (Safe) रहेंगे।
इसके अलावा सभी मंजिलों को साढ़े सात फुट दूरी पर रखा गया है।

इसमें प्रयोग की गई निर्माण सामग्री (Construction material) पत्थर व अन्य प्रकार के सामान से बनी हुई है जो मौसम के अनुसार गर्म, ठंडी होने में सक्षम है। अंतिम चरण का काम महज एक सप्ताह में पूरा कर लिया जाएगा। इसमें 23 गुणा 25 फुट का चबूतरा बनाया जाएगा जिस पर भक्त प्रतिदिन दाना डाल सकेंगे।


दो साल में ऐसे 25 पक्षी घर बनाने का लक्ष्य 


पक्षी घर के संयोजक एवं बाबा जयरामदास कमेटी के वरिष्ठ सदस्य मास्टर कैलाश शर्मा (bird house coordinator) ने बताया कि मंदिर कमेटी द्वारा आगामी दो वर्षों में जिले में ऐसे 25 पक्षी घर बनाने का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए सामाजिक, धार्मिक संगठनों एवं मंदिर कमेटियों का पूरा सहयोग किया जाएगा। 


दो कमेटियों ने पक्षीघर निर्माण (bird house construction) की मंजूरी दे दी है शीघ्र ही उनपर काम शुरू किया जाएगा। हमने चील, गिद्ध सहित छोटी चिड़ियों की अनेक प्रजाती लुप्त हो गई हैं। यदि पक्षियों को संरक्षण नहीं मिला तो प्रकृति का भी संतुलन बिगड़ जाएगा। कमेटी अब जिला में योजना बनाकर पक्षियों के संरक्षण के लिए काम करेगी। मुख्यमंत्री द्वारा जल्द ही इसका उद्घाटन किया जाएगा।


3 हजार पक्षी बसा सकेंगे अपना परिवार


बाबा जयरामदास कमेटी के प्रधान सूबेदार रामअवतार सिंह ने बताया कि यह पक्षी घर एक साथ तीन हजार पक्षियों (Mahendragarh Bird House) के लिए परिवार बसाने के लिए पर्याप्त है। आधुनिक तरीके से बने इस पक्षीघर पर मौसम की मार भी नहीं रहेगी।

इसके निर्माण में विजय कुमार नांगलिया, नलिनी नांगलिया, सज्जन शर्मा हाल आबाद भिवाड़ी, रोहताश अग्रवाल हाल आबाद उड़ीसा, आनंद प्रकाश, आचार्य कमलकांत व मंदिर कमेटी के साथ-साथ ग्रामीणों का विशेष सहयोग रहा है।


देश का पहला सबसे ऊंचा पक्षी घर जिले का बढ़ाएगा गौरव  (Country's tallest first bird house)


देशभर का सबसे ऊंचा पहला पक्षी घर (Country's tallest first bird house) जिले के साथ-साथ प्रदेश का नाम रोशन करेगा। इससे पूर्व राजस्थान के जिला नागौर के गांव पीह में 62 फुट ऊंचा पक्षी घर  था। लेकिन धाम पर बने आधुनिक पक्षी घर की ऊंचाई 73 फुट है जो देश में सबसे अधिक है। लगातार कम होती पक्षियों  की संख्या को बढ़ाने के लिए यह सराहनीय पहल है। जल्द ही इस दायरे को बढ़ाया जाएगा।