हरियाणा में बिजली विभाग के इंजीनियर सीखेंगे साइबर अटैक निपटने के तरीके, दी जाएगी खास ट्रेनिंग

 | 
हरियाणा में बिजली विभाग के इंजीनियर सीखेंगे साइबर अटैक निपटने के तरीके, दी जाएगी खास ट्रेनिंग

साइबर अटैक के खतरों को देखते हुए हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम अपने नए और पुराने इंजीनियर्स को अब खास ट्रेनिंग देने जा रहा है। इसके तहत इंजीनियर्स को पावर ग्रिड साइबर अटैक से बचाने और साइबर अटैक की सूरत में उससे निपटने के लिए ट्रेंड किया जाएगा।

इसके लिए एचवीपीएनएल के पंचकूला स्थित हरियाणा पावर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में ट्रेनिंग दी जाएगी। इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद निगम में ज्वाइन करने वाले अधिकारियों को भी प्रेक्टिल ट्रेनिंग दी जाएगी, ताकि वह अपने कार्य में पूरी तरह दक्ष हो जाएं।

आधिकारिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार निगम अपने नए और पुराने एक्सईएन लेवल तक के अधिकारियों को ट्रेनिंग देगा। इसके तहत साइबर अटैक से बचने और अटैक होने की सूरत में स्थिति से निपटने के तरीके बताए जाएंगे। विश्व स्तर पर साइबर अटैक किसी भी देश की बिजली व्यवस्था के लिए बड़ा खतरा बना रहता है।

साइबर अटैक से देश में 'ब्लैकआउट' की स्थिति पैदा हो जाती है। ट्रेनिंग में यह सिखाया जाएगा कि साइबर अटैक से किस तरह बचा जाए। अटैक होने की सूरत में क्या एक्शन लिया जाए। साइबर क्राइसिस से किस तरह निपटा जाए।

टावरों की सुरक्षा पर भी ट्रेनिंग

आंधी और तूफान के समय 400 केवी क्षमता के बिजली टावरों को सबसे अधिक खतरा रहता है। इन टावरों के गिरने से बड़े हादसे हो सकते हैं। टावरों को सुरक्षित रखने के तौर-तरीकों पर अभियंताओं को प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके साथ ट्रेनिंग में निगम की संपत्तियों को सुरक्षित रखने और उपलब्ध बिजली संसाधानों के बेहतर इस्तेमाल की ट्रेनिंग दी जाएगी।

लाइन लॉस को कैसे कम किया जाए और संप्रेषण लाइनों में फॉल्ट की संभावनाओं को किस तरह से कम किया जाए, इसे लेकर भी इंजीनियरों को ट्रेंड किया जाएगा। निगम के एक अधिकारी ने बताया कि नए ज्वाइन करने वाले इंजीनियर्स के लिए यह ट्रेनिंग ज्यादा कारगर साबित होगी। उन्हें बिजली संप्रेषण से संबंधित प्रेक्टिल नॉलेज मिल सकेगी।