हरियाणा के एक छोटे से कस्बे से निकल आईएएस बनी अंकिता, यूपीएससी तक का सफर कुछ ऐसा रहा...

 | 
Success Story Of IAS Topper Ankita Chaudhary
Success Story Of IAS Topper Ankita Chaudhary

यूपीएससी की तैयारी करते वक्त अगर आप अपनी गलतियों को सुधारकर हर बार बेहतर तरीके से प्रयास करेंगे तो आप यहां सफलता प्राप्त कर सकते हैं। 2018 में यूपीएससी परीक्षा पास कर आईएएस अफसर बनने वाली अंकिता चौधरी के मुताबिक यही सफलता का मूल मंत्र होता है। हरियाणा के एक छोटे कस्बे से निकलकर अंकिता ने यूपीएससी तक का सफर पूरा किया। वे यूपीएससी में फेल भी हुईं लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और दूसरे प्रयास में अपना सपना पूरा कर लिया। 

अंकिता हरियाणा के रोहतक जिले के एक कस्बे की रहने वाली हैं। उनकी शुरुआती पढ़ाई भी यहीं हुई। इंटरमीडिएट के बाद उन्होंने दिल्ली से ग्रेजुएशन करने का फैसला किया। ग्रेजुएशन के दौरान ही उन्होंने यूपीएससी का मन बना लिया था और फिर पोस्ट ग्रेजुएशन में दाखिला ले लिया। अपनी पीजी की पढ़ाई के दौरान भी वे यूपीएससी की तैयारी करती रहीं। हालांकि उन्होंने जब तक पोस्ट ग्रेजुएशन कंप्लीट नहीं हो गई तब तक यूपीएससी सिविल सेवा की परीक्षा नहीं दी। मास्टर डिग्री कंप्लीट होने के बाद उन्होंने पूरी तरह यूपीएससी की तैयारी शुरू कर दी।

अंकिता ने जब पहली बार यूपीएससी की परीक्षा दी तो वे फेल हो गईं। लेकिन उन्होंने अपनी कमियों का एनालिसिस किया और दूसरे प्रयास में उन्हें सुधारकर बेहतर तरीके से तैयारी की। उनका मानना है कि हर बार कमियों को सुधारकर आप अपनी तैयारी को काफी मजबूत बना सकते हैं। दूसरे प्रयास में उन्होंने 14वीं रैंक हासिल करके आईएएस बनने का सपना पूरा कर लिया। 

IAS Topper Ankita Chaudhary

अंकिता का मानना है कि चाहें आपका बैकग्राउंड कुछ भी रहा हो, लेकिन अगर आप यूपीएससी की तैयारी करना चाहते हैं तो बेहतर रणनीति बनाएं और ईमानदारी से मेहनत में जुट जाएं। वह कहती हैं कि यहां मिलने वाली असफलताओं से घबराने के बजाय उनसे सीखना चाहिए और अगला प्रयास बेहतर तरीके से करना चाहिए। अगर आप लंबे समय तक सही रणनीति बनाकर मेहनत करते रहेंगे, तो आपका यूपीएससी का सपना जरूर पूरा हो जाएगा।