ठेकेदार के कर्ज के चलते मां-बाप ने 17 साल की बेटी की 35 साल के लड़के से करवाई शादी, जानिए पूरा मामला

 | 
ठेकेदार के कर्ज के चलते मां-बाप ने 17 साल की बेटी की 35 साल के लड़के से करवाई शादी, जानिए पूरा मामला

हरियाणा के पानीपत जिले में बाल विवाह करने का एक मामला सामने आया है। एक ठेकेदार ने कर्ज के नीचे दबे दंपति को डरा धमका कर लड़की की शादी उससे दोगुनी उम्र के लड़के से करवा दी। ठेकेदार ने लड़के पक्ष से सोने की अंगूठी और 1.5 लाख रुपए शादी करवाने का इनाम भी लिया। इसके बाद लड़की को यातानाएं दी जाने लगीं।

लड़की ने बाल विवाह निषेध अधिकारी को चिट्‌ठी लिखकर आपबीती बताई। अधिकारी ने इस पर तुरंत संज्ञान लेते हुए दोनों पक्षों को तलब किया। सभी के बयान दर्ज किए गए। बाल विवाह का खुलासा होने पर पुलिस को केस दर्ज करने के बारे में लिखा, मगर पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही है। पुलिस न ही केस दर्ज कर रही है और न ही अधिकारी के रिमाइंडर का जवाब दे रही है। इधर लड़के ने भी रोहतक फैमिली कोर्ट में घर बसाने का दावा कर दिया है।

लड़की ने डाक से भेजी शिकायत

बाल विवाह निषेध अधिकारी रजनी गुप्ता को डाक द्वारा भेजी शिकायत में लड़की ने बताया था कि वह पानीपत जाटल रोड की रहने वाली है। उसकी शादी हसनगढ़ सांपला रोहतक में हुई है। उसके माता-पिता बहुत गरीब हैं व मेहनत मजदूरी करते हैं। उसकी शादी से कुछ दिन पहले बिचौलिया दयानंद निवासी काबड़ी से पिता ने कुछ रुपए उधार लिए थे।

 
जनवरी में दयानंद घर गया और पिता से रुपए मांगने लगा, लेकिन जब पिता ने रुपए देने में असमर्थता जताई तो बिचौलिए ने कहा कि तुम पैसा मत दो। बस मेरे कहने पर अपनी बेटी का रिश्ता कर दो तो तुम्हारा सारा पैसा माफ हो जाएगा। पिता ने यह करने से मना कर दिया तो दयानंद ने धमकी दी कि तुम किराएदार हो, तुम्हारे पूरे परिवार को ठिकाने लगा दूंगा।

पिता के पास रुपए नहीं थे तो बिचौलिए के दबाव में पिता ने लड़की की शादी नाबालिग उम्र में ही कर दी। मां ने ससुराल पक्ष से कहा कि बेटी नाबालिग है तो उसे बालिग होने पर ही भेजेगी। ससुराल वालों ने दयानंद के माध्यम से परिवार पर दबाव बनाया। लड़की ससुराल गई और वहां जाते ही ससुराल वालों ने उसे मानसिक व शारीरिक प्रताड़ना देनी शुरू कर दी।

पति के पड़ोस में अवैध संबंध हैं। जब इसकी शिकायत उसने सास-ससुर से की तो ससुराल वालों ने कहा कि यह हक तुझे नहीं है। हमने तुझे दयानंद से पैसे देकर खरीदा है। जब इस बारे में लड़की ने अपने मां बाप को बताया तो मां-बाप लड़ झगड़ कर उसे वापस ले आए। ससुराल में खाना-पीना भी कम दिया जाता है। मजदूर की तरह काम करवाया जाता है। बीमार होने पर दवाइयां भी नहीं दी जाती थीं।


लड़की की मां ने रिश्ते से मना किया तो भी ठेकेदार ने धमकाया

शिकायत के आधार पर प्रोटेक्शन ऑफिसर रजनी गुप्ता को मां ने बताया था कि उसके दो बच्चे हैं। दोनों की परवरिश वही करती है। वह ठेकेदार दयानंद के पास चिनाई का काम करती है। उसका पति शराबी है, जिसने दयानंद से रुपए उधार लिए थे। स्कूली दस्तावेज के आधार पर लड़की की जन्म तारीख अगस्त 2005 मिली, यानि लड़की की शादी 17 साल 3 माह की उम्र में 15 मार्च 2021 को की गई थी।

मां ने यह भी बताया कि वह जब लड़का देखने गई थी तो उसे वह उम्र में बड़ा लगा। लड़के की उम्र 35 साल थी। उसने रिश्ता करने से मना कर दिया था, मगर दयानंद ने धमकी दी थी, जिस वजह से उन्हें लड़की की शादी करनी पड़ी। शादी के बाद पता लगा कि दयानंद ने लड़का पक्ष से आधा तोला वजनी सोने की अंगूठी व 1.5 लाख रुपए लिए थे। वहीं लड़की को ससुराल वाले प्रताड़ित कर रहे थे।

रोहतक फैमिली कोर्ट में डाला घर बसाने का दावा

30 अप्रैल को लड़के ने बयानों में बताया कि उसकी शादी मार्च में हुई थी। जून में लड़की घर चली गई थी। जब उसे पता लगा कि लड़की ने आने से मना कर दिया तो उसने रोहतक फैमिली कोर्ट में घर बसाने का दावा डाला है, जिसकी आगामी तारीख 7 जुलाई 2022 लगी है।

प्रोटेक्शन ऑफिसर ने 4 मई 2022 को पुराना औद्योगिक थाना में बाल विवाह निषेध अधिनियम एक्ट की धारा 9, 10 व 11 के तहत मुकदमा दर्ज करने को लिखा था, जिस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

उन्होंने 16 जून को फिर से रिमाइंडर लिखा, मगर उसका भी कोई जवाब नहीं मिला है। लड़की ने भी दिसंबर 2021 में मॉडल टाउन थाने में लड़की ने एक शिकायत दी। जिस शिकायत को किशनपुरा चौकी में ट्रांसफर कर दिया गया, जहां कोरे कागजात पर दस्तखत करवा दिए और लड़की को बोला गया कि कोर्ट में जाओ। लड़की की मां ने भी एक शिकायत पुलिस को दी थी, मगर पुलिस ने धमकाते हुए कहा कि शिकायत से नाबालिग शब्द हटा लो, वरना तुम भी जेल जाओगे।