महंगाई की मार: महंगे टमाटर और प्याज ने बिगाड़ा किचन का बजट, जानिए टमाटर और प्याज के ताजा रेट

महंगाई की मार: सरसों तेल के बाद टमाटर-प्याज के दाम बढ़े। एक महीने में 150 प्रतिशत तक बढ़ी टमाटर की कीमतें। एक महीने में 80 प्रतिशत तक बढ़े प्याज के दाम।
 | 
महंगाई की मार: महंगे टमाटर और प्याज ने बिगाड़ा किचन का बजट, जानिए टमाटर और प्याज के ताजा रेट

त्योहारों के सीजन में महंगाई ने आम आदमी को बुरी तरह पस्त कर दिया है। रसोई गैस, सरसों के तेल के बाद अब टमाटर और प्याज की ऊंची कीमतों ने किचन का बजट बिगाड़ दिया है।

महंगे टमाटर और प्याज ने बिगाड़ा किचन का बजट

देश में प्याज की खुदरा कीमतें औसतन 50-60 रुपए प्रति किलो तक पहुंच गई हैं। वहीं, टमाटर की खुदरा कीमतें देश के अलग-अलग शहरों में 70 से 80 रुपए प्रति किलो हो गई हैं। पिछले एक सप्ताह में टमाटर की खुदरा कीमतें लगभग दोगुनी और प्याज की कीमतों में प्रति किलोग्राम पांच से 10 रुपए का इजाफा हुआ है। टमाटर के दाम तो पिछले एक महीने में 150 फीसदी तक बढ़ चुके हैं
 
टमाटर और प्याज की कीमतों में आई बड़ी तेजी की वजह ईंधन की आसमान छूती कीमतें और महाराष्ट्र व कर्नाटक में भारी बरसात के कारण फसल को हुआ नुकसान है। सब्जियों के काम बढऩे से आने वाले त्योहारी सीजन में खरीदारी पर असर पड़ सकता है। महाराष्ट्र व कर्नाटक से टमाटर की नई फसल को आने में अभी देर है। ऐसे में महंगे टमाटर से राहत मिलता नहीं दिख रहा है।

परिवहन लागत...
18 से 20 फीसदी तक बढ़ी -

डीजल महंगा होने से सब्जियों के परिवहन की लागत 18 से 20 फीसदी तक बढ़ गई है। पहले महाराष्ट्र से दिल्ली आने वाले टमाटर के एक कट्टे यानी 25 से 30 किलो के क्रेट पर 150 से 170 रुपए का खर्च आता था, जो अब बढ़कर 200 से 300 रुपए हो गया है। अमूमन यही हाल राजस्थान सहित अधिकतर राज्यों का है। मध्य प्रदेश, कर्नाटक और महाराष्ट्र प्याज और टमाटर के प्रमुख उत्पादक राज्य हैं, जहां से देशभर में इनकी सप्लाई होती है।