स्मार्ट मीटर से ज्यादा स्मार्ट निकले यहां के चोर, चोरी के तरीकों को देखकर विजिलेंस टीमें दंग

 | 
gorakhpur-city-local

Electricity Theft in Gorakhpur गोरखपुर में बिजली चोरी की घटनाएं लगातार हो रही हैं। हाल के द‍िनों में बिजली चोरी के कई मामले पकड़ में आने के बाद बिजली व‍िभाग की व‍िज‍िलेंस टीमें सतर्क हो गई हैं। चोरी के आरोप में कई लोगों के ख‍िलाफ एफआईआर दर्ज की गई है।

विजय चौक के पास गैस गोदाम गली के वृद्धि अपार्टमेंट में स्मार्ट मीटर से बिजली चोरी का मामला सामने आया है। एंटी थेफ्ट थाने में अपार्टमेंट के मालिक सत्यप्रकाश गोयल के खिलाफ एफआइआर दर्ज करा दी गई है। गोयल पर 1.47 लाख रुपये जुर्माना और 12 हजार रुपये शमन के लगाये गये हैं। उन्होंने 50 हजार रुपये जमा भी कर दिये हैं।

एक नागरिक ने बिजली निगम के चेयरमैन को दी थी सूचना

एक नागरिक की मेल से मिली सूचना पर बिजली निगम के चेयरमैन एम देवराज ने जांच कराने के निर्देश दिये थे। शिकायती पत्र में नागरिक ने लिखा कि वृद्धि चंद अपार्टमेंट में बड़े पैमाने पर बिजली की चोरी की जा रही है। एसी और अन्य उपकरण लगाने के बाद भी हर महीने एक से दो हजार रुपये ही बिल आ रहा है। चेयरमैन के निर्देश के बाद मुख्य अभियंता अशोक कुमार सिंह ने अधीक्षण अभियंता को जांच कराने को कहा। इसके बाद नगरीय विद्युत वितरण खंड प्रथम टाउनहाल के अधिशासी अभियंता नवनीत प्रजापति के नेतृत्व में टीम बनाकर जांच की गई। टीम में गोलघर के एसडीओ ऐश्वर्य सिंह, विजिलेंस टीम प्रभारी दिलीप मिश्र, जेई विशाल शर्मा आदि शामिल रहे।

22 कनेक्शन, एक में मिली गड़बड़ी

वृद्धि चंद अपार्टमेंट में 22 फ्लैट हैं। सभी में एक-एक कनेक्शन है। अधिशासी अभियंता ने बताया कि सत्यप्रकाश गोयल के फ्लैट के स्मार्ट मीटर में गड़बड़ी मिली। स्मार्ट मीटर की सील टूटी मिली। इसे ग्लू से जोड़ा गया था। न्यूट्रल करंट को एक तिहाई कर दिया गया था। इससे काफी कम रीडिंग पर बिल बन रहा था।

पिछले साल 12 मार्च को शुरू की थी चोरी

बिजली निगम के अफसरों ने तीन किलोवाट कनेक्शन के स्मार्ट मीटर की मीटर रीडिंग इंस्ट्रूमंट (एमआरआइ) से जांच की तो पता चला कि 12 मार्च 21 को मीटर से छेड़छाड़ की गई थी। इसके बाद से लगातार कम बिल बन रहा था। अधिशासी अभियंता नवनीत प्रजापति ने बताया कि परिसर में लोड और छेड़छाड़ की तिथि से जुर्माना व शमन लगाया गया है। मौके पर लार्सन एंड टूब्रो के सुपरवाइजर को भी बुलाया गया। मीटर को लैब में जमा करा दिया गया है। उपभोक्ता ने 50 हजार रुपये के साथ ही मीटर के आठ हजार रुपये जमा किये। इसके बाद दूसरा मीटर लगाकर बिजली दी जा रही है।

सगे भाइयों के परिसर में मिली थी बिजली चोरी

प्रदेश में स्मार्ट मीटर से बिजली चोरी का पहला मामला बक्शीपुर खंड क्षेत्र के भरपुरवा में सगे भाइयों अहमद खान व इमरान खान के परिसर में मिला था। बिजली निगम की टीम ने दोनों भाइयों की आइसक्रीम फैक्ट्री की जांच की तो चार स्मार्ट मीटरों से बिजली की चोरी होते मिली।