BPSC Paper लीक, छात्रों ने किया हंगामा, परीक्षा शुरू होने के बाद भी एंट्री

BPSC 67th prelims paper leak: रविवार, 8 मई को करीब 6 लाख उम्मीदवारों की बीपीएससी की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा बिहार के 38 जिलों के 1083 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई थी. परीक्षा से ठीक पहले सोशल मीडिया पर पेपर वायरल हो गया.
 
 | 
BPSC Paper Leak

BPSC 67th Prelims Paper Leak News: बिहार लोक सेवा आयोग (BPSC) 67वीं प्रारंभिक परीक्षा पेपर लीक का मामला सामने आया है. बीपीएससी 67वीं संयुक्त प्रारंभिक परीक्षा 8 मई, 2022 को आयोजित की गई थी. आरोप है कि पेपर परीक्षा शुरू होने से 7 मिनट पहले लीक हो गया.

मीडिया रिपोर्ट की मानें तो पेपर, परीक्षा (BPSC 67th Prelims Exam 2022) से कुछ देर पहले टेलीग्राम ग्रुप पर वायरल हो गया. टेलीग्राम पर वायरल हो रहा पेपर, परीक्षा के दौरान दिए गए पेपर से मेल खा रहा है.


पेपर लीक का पूरा घटना क्रम

रविवार को बीपीएससी की 67वीं संयुक्त प्रारंभिक प्रतियोगिता परीक्षा राज्यभर में 38 जिलों के 1083 परीक्षा केंद्रों पर आयोजित की गई.

इस परीक्षा के लिए तकरीबन 6 लाख से ज्यादा उम्मीदवार परीक्षा देने पहुंच थे. परीक्षा 12 बजे से शुरू हुई लेकिन उम्मीदवारों को परीक्षा होने से 1 घंटा पहले परीक्षा केंद्र पर पहुंचने के निर्देश दिया गया था. उम्मीदवार परीक्षा देने पहुंचे लेकिन परीक्षा शुरू होने के कुछ देर बाद पेपर लीक खबर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई.


जहां पेपर लीक हुआ वहां उम्मीदवारों का क्या कहना है?

बीपीएससी 67वीं पेपर लीक का आरोप कई परीक्षा केंद्रों पर है लेकिन सबसे पहले आरा के वीर कुंवर सिंह कॉलेज के परीक्षा केंद्र पर पेपर लीक का मामला सामने आया.

यहां परीक्षा देने पहुंचने कुछ उम्मीदवारों का आरोप है कि जब वे परीक्षा के लिए एग्जाम हॉल में पहुंच तो अन्य दो एग्जाम हॉल या प्राइवेट रूम कह लीजिए, में उम्मीदवार ओएमआरशीट और प्रश्न पत्र के साथ बैठे थे. 

परीक्षा केंद्र में मोबाइल फोन लेकर बैठे थे उम्मीदवार!

हालांकि परीक्षा से पहले जारी दिशानिर्देशों में कहा गया था कि परीक्षा देने वाले उम्मीदवारों को परीक्षा हॉल में मोबाइल, ब्लूटूथ, वाईफाई गैजेट, इलेक्ट्रॉनिक पेन, पेजर, स्मार्टवॉच या कोई इलेक्ट्रॉनिक सामान ले जाने की अनुमति नहीं है लेकिन आरोप लग रहे हैं कि आरा के परीक्षा केंद्र पर उम्मीदवार मोबाइल फोन लेकर एग्जाम हॉल में बैठे थे.

पेपर नहीं मिला तो बताया जाम में फंसे हैं

उम्मीदवार अपने एग्जाम हॉल में पहुंचे तो काफी देर तक ओएमआर शीट नहीं दी गई. उम्मीदवारों को कहना है कि जब उन्होंने कॉलेज एग्जामिनर से इसकी वजह पूछी तो पेपर ट्रैफिक जाम में फंसे होने की बात कही, प्रिंसिपल के पास पहुंचे तो वे चिल्लाने लगे और वहां से भगा दिए गए. उम्मीदवारों ने यह भी आरोप लगाया कि 12 बजे के बाद भी एग्जाम सेंटर पर अन्य तीन उम्मीदवारों को एंट्री दी गई थी. आरा में सैकड़ों परीक्षार्थी प्रदर्शन कर रहे हैं.

वायरल पेपर से हूबहू मिल गया सेट-C का पेपर

पटना समेत वैशाली, आरा, औरंगाबाद, सीतामढ़ी परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा समाप्त होने के बाद उम्मीदवारों ने टेलीग्राम पर वायरल बीपीएससी पेपर से सवाल मिलाए जो एक-दूसरे से हूबहू मेल खा रहे थे. जानकारी के मुताबिक बीपीएससी की प्रारंभिक परीक्षा का सेट-C का प्रश्नपत्र लीक हुआ है.

आयोग परीक्षा रद्द करेगी या नहीं? जानें कब होगा फैसला

बीपीएससी परीक्षा के प्रश्न पत्र लीक होने का मामला जैसे ही आयोग के पास पहुंचा तो उसके हाथ पांव फूल गए और आनन-फानन में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन कर दिया. बीपीएससी के अध्यक्ष आरके महाजन ने कहा कि प्रश्न पत्र लीक होने के मामले में तीन सदस्यीय जांच कमेटी का गठन कर दिया है जो 24 घंटे के अंदर अपनी रिपोर्ट देगी. महाजन ने बताया कि जांच समिति की रिपोर्ट आने के बाद ही आयोग परीक्षा को लेकर कोई फैसला लिया जाएगा. रिपोर्ट के बाद ही पता चलेगा कि बीपीएससी 67वीं प्रीलिम्स परीक्षा रद्द होगी या नहीं? अगर रद्द हुई तो अब कब होगी? पेपर लीक की वजह से जिन उम्मीदवारों नुकसान हुआ है, उन्हें कोई सुविधा मिलेगी या नहीं?

निराश उम्मीदवारों ने सोशल मीडिया पर विरोध जताया

पेपर लीक की खबर मिलने के बाद से उम्मीदवार नाराज और निराश है. उनमें कुछ ने ट्विटर पर आयोग और प्रशासन को खरी-खोटी सुनाई. एक ट्विटर यूजर ने लिखा, 'आदरणीय सुशासन बाबू @NitishKumar एक #BPSC ही था जिसके paper leak नहीं होते थे, पर आपने उसका भी रिकॉर्ड तोड़ दिया, 300-400km दूर सेन्टर पर एग्जाम देकर आने के बाद पता चले पेपर लीक है, कौन सी व्यवस्था है आपकी ???'. वहीं दूसरे यूजर ने लिखा कि बीपीएससी पेपर लीक मामले में जो जो शामिल है, उन्हें फांसी की सजा होनी चाहिए.