खेत-खलियान

PM किसान सम्मान निधि के लिए होगी किसानों की जाँच, वेरिफिकेशन के बाद ही मिलेंगे किस्त के रूपये

CH Silven
22 Sep 2022 6:48 AM GMT
PM किसान सम्मान निधि के लिए होगी किसानों की जाँच, वेरिफिकेशन के बाद ही मिलेंगे किस्त के रूपये
x
यह खबर सभी किसान भाइयों के लिए है. बताया जा रहा है

फतेहाबाद :- यह खबर सभी किसान भाइयों के लिए है. बताया जा रहा है कि प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के लिए किसानों को अब इंतजार करना पड़ेगा. किसान यह उम्मीद लगाए बैठे थे कि September माह में उनकी किस्त जारी हो जाएगी, लेकिन अब सरकार किसानों की जमीन का Verification करवा रही है. जिन किसानों के पास जमीन होगी उनको ही रुपये मिलेगें. वेरिफिकेशन के लिए प्रत्येक जिले के अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं.

1 महीने का समय लग सकता है

बताया जा रहा है कि अधिकारी राजस्व विभाग के Portal के साथ पटवारियों से जानकारी प्राप्त करके Upload कर रहे हैं. ऐसा करने में करीब एक महीने का समय लग सकता है. जैसा कि आप सभी को पता है जिला योजना के तहत पंजीकृत किसानों को सालाना 6 हजार रुपये मिलते हैं. ये पैसे 3 किस्तों में हर 4 महीने के बाद दिए जाते हैं. अब ये रुपये April से सितंबर महीने में मिलने वाले थे, लेकिन अब ये रूपये वेरिफिकेशन होने के बाद ही मिलेंगे. ऐसा भी हो सकता है कि ये रुपये December की किस्त के साथ भी मिल सकते हैं.

केवल 20 हजार किसानों की जमीन की हुई जांच

पूरे जिले में लगभग 98 हजार किसानों में से केवल 20 हजार किसानों की जमीन से संबंधित Document की जांच की गई है. जिसमें से सभी दस्तावेज सही मिले है. वहीं करीब 30 हजार किसानों ने तो Online KYC तक नहीं करवाई है. बताया जा रहा है कि उनकी जमीन संबंधित जांच उनके केवाईसी होने के बाद ही की जाएगी.

12वीं किस्त जारी की जानी थी

आपको बता दें कि केंद्र सरकार की योजना के तहत अब तक किसानों को 11 किस्तों में 22 हजार रुपये दिए जा चुके हैं. अब 12वीं किस्त जारी की जानी थी. बताया जा रहा है कि जिले में किस्त के द्वारा करोड़ों रुपये आते है. इस योजना के तहत शुरूआत में 44 हजार के करीब किसान पंजीकृत किये गए थे. इसके बाद 1 लाख 2 हजार किसान हो गए. इसमें से 4 हजार किसान नौकरी- पेशा धारक मिले. उनका नाम बाद में Recovery डालकर इस योजना से काटा गया.

क्या है किसानों की मांग

किसानों का कहना है कि सरकार 2 हजार रुपये किसानों को दे रही है, हम लोग इसका विरोध नहीं करते हैं. लेकिन हमारी यह मांग है कि सरकार द्वारा सभी किसानों के खेतों में नहरी पानी की सही व्यवस्था की जाए. पानी के लिए खेतों में पक्के खाल की व्यवस्था की जाए, नहरी पानी की चोरी पर रोक लगाई जाए. सख्त सजा का प्रावधान किया जाए जिसके चलते नकली बीज व Pesticide पर रोक लग सके. जानकारी के मुताबिक आपको बता दें कि जिले के किसानों को हर किस्त में औसतन 20 करोड़ रुपये दिए जा रहे है.

Next Story