Sarson Ka Bhav: सरसों के भाव में तेजी ?,मानसून से लगेगा सरसों की मंदी पर ब्रेक

व्यापारियों के अनुसार हालांकि सरसों में आज बिकवाली कमजोर हुई है, ऐसे में माना जा रहा है कि मौजूदा कीमतों में अब ज्यादा मंदा नहीं आयेगा। हालांकि इसकी कीमतों में आगे तेजी, मंदी काफी हद तक विदेशी बाजार में खाद्य तेलों के दाम कैसे रहते हैं, इस पर भी निर्भर करेगी।
 
 | 
sarso ka bhav today

ग्राहकी कमजोर होने के कारण घरेलू बाजार में सरसों एवं इसके तेल की कीमतों में आज भी गिरावट दर्ज की गई। जयुपर में कंडीशन की सरसों के भाव 100 रुपये घटकर 7,000 रुपये प्रति क्विंटल रह गए। देशभर की मंडियों में आज सोमवार को सरसों की दैनिक आवक 3 लाख 40 हजार बोरियों की हुई ।

व्यापारियों के अनुसार हालांकि सरसों में आज बिकवाली कमजोर हुई है, ऐसे में माना जा रहा है कि मौजूदा कीमतों में अब ज्यादा मंदा नहीं आयेगा। हालांकि इसकी कीमतों में आगे तेजी, मंदी काफी हद तक विदेशी बाजार में खाद्य तेलों के दाम कैसे रहते हैं, इस पर भी निर्भर करेगी।

साथ ही आगामी दिनों में देशभर के राज्यों में मानसूनी बारिश कैसी होती है, इसका असर भी खाद्य तेलों की कीमतों पर देखने को मिलेगा। जानकारों के अनुसार जुलाई में खाद्य तेलों में घरेलू मांग बढ़ने की उम्मीद है।मलेशिया में पॉम तेल की कीमतों में गिरावट

मलेशिया में पॉम तेल की कीमतों में चालू सप्ताह के अंतिम दिनों में गिरावट आई है, तथा जिस तरह से इंडोनेशिया की सरकार क्रुड पॉम तेल के निर्यात को बढ़ावा देने के लिए कदम उठा रही है, उसे देखते हुए मलेशिया में पॉम तेल की कीमतों में अभी बड़ी तेजी के आसार तो नहीं है, लेकिन नीचे भाव में बिकवाली कम आने से दाम रुक सकते हैं।
सरसों की दैनिक आवक

देशभर की मंडियों में आज सोमवार 13 जून को सरसों की दैनिक आवक 3 लाख 40 हजार बोरियों की रही, इससे पहले शनिवार को सरसों की दैनिक आवक 3 लाख बोरियों की हुई थी।

आज सोमवार को प्रमुख सरसों उत्पादक राज्य राजस्थान की मंडियों में सरसों की आवक 1.70 लाख बोरी, मध्य प्रदेश में 20 हजार बोरी, उत्तर प्रदेश में 50 हजार बोरी, हरियाणा और पंजाब में 40 हजार बोरी, गुजरात में 10 हजार बोरी तथा अन्य राज्यों की मंडियों में 50 हजार बोरी सरसों की आवक हुई।
सरसों सप्ताहिक रिपोर्ट:

बीते सप्ताह की शुरुआत सोमवार 6 जून को जयपुर सरसों नयी 6900 रुपये पर खुला था ओर शनिवार शाम 7100 रुपये पर बंद हुआ। बीते सप्ताह के दौरान सरसों में +200 रूपये कुन्टल की मजबूती दर्ज की गई। सरसो तेल की कीमतों में इस सप्ताह बढ़त दर्ज की गयी हालाँकि सप्ताह अंत में विदेशी बाजारों में गिरावट के चलते सरसो और सरसो तेल के भाव गिरावट दर्ज की गई थी ।

मार्च से मई के बीच 43 लाख टन सरसो क्रश होने का अनुमान। पिछले वर्ष सामान अवधि की तुलना में सरसो की क्रशिंग 30% अधिक हुई। जबकि मार्च से मई के बीच सरसों की कुल आवक 53.75 लाख टन होने का अनुमान है जो पिछले वर्ष सामान अवधि की तुलना में सरसो की क्रशिंग 37% अधिक है ।

मार्च-अप्रैल में अन्य खादय तेलों वैश्विक सप्लाई घटने से सरसो तेल पर आपूर्ति करने का भार पड़ा। इसलिए सरसो की क्रशिंग पिछले वर्ष के मुकाबले बढ़ी है, लेकिन मई के शुरुआत से आयातित तेलों की सप्लाई सामान्य होने से सरसो की क्रशिंग अप्रैल की तुलना में कम हुई है।

सरसो तेल में सप्ताह की शुरुआत में तेजी को देख मीलों की सरसो में खरीदारी निकली सलोनी प्लांट भाव 250 रुपए तक बढ़ाने के बाद सप्ताह अंत में 7550 पर दर्ज किया गया।

स्टॉक लिमिट पर सख्ती विदेशी बाज़ारों में उठा पटक को देखते 6800/7200 के बीच रहने की उम्मीद है । सरसो के निचले स्तर पर ट्रेडर्स इस दायरे खरीदारी करें और बढ़त में मुनफावसूली जिनके पास स्टॉक है अभी होल्ड करें।
सरसों का भाव 13 जून 2022 (MUSTARD PRICE)

सरसों की कीमतों में सोमवार को 50 से 100 रुपए प्रति क्विंटल तक की गिरावट देखने को मिल रही है । आइये जाने आज के सरसों के हाजिर बोली भाव क्या चल रहे है ?

आगरा शमशाबाद/दिगनेर 7450 (-50)
अलवर सलोनी 7450 (-50)
कोटा सलोनी 7450 (-50)
आगरा बीपी 7350 (-50)
आगरा शारदा 7350 (-50)
भरतपुर 6611 (-14)
गंगापुर सिटी 6625 (-35)
जयपुर 7000 (-100)
एक्सपेलर 1422 (-16)
कच्ची घानी 1432 (-16)
खल 2650 – 2675 (-25)
दिल्ली 6800 (+0)
सुमेरपुर 6960 (-40)
अशोकनगर 6371
खैरतल 6701 (-10)
ग्वालियर 6500 (-100)
हिसार 6600
बरवाला 6450 (-100)
कैथल 6701
नदबई/डीग/कमन /नागौर / कुम्हेर 6611 (-14)